The Basic Golden Rules of Trading ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- -------------------------Always be a disciplined trader. ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- -------------------------Price is what you pay. Value is what you get. ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- -------------------------Never trade on news or rumors, always follow the levels, remember, news does not make levels, it just triggers levels. ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- -------------------------Never ever enter a trade where the risk to reward ratio is less than 1:4. ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- -------------------------Never get panicked or exited by the happenings on the screen, stick to the levels and stop loss, else you’ll always end up loser. ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- -------------------------80-20 rule→Always remember 80% of the profit from trading will come only from 20% of your trades. ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- -------------------------Be consistent and systemic→A trader has to be systemic and consistent in his trading. Only a consistent trader can make most out of the available opportunities. ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- -------------------------No prediction→One can never know in advance which of his trade will end in a loss or profit. ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- -------------------------Follow the trend→Always follow the trend. Follow the price and never ever expect market to follow you. ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- -------------------------Big profits & losses (a part of trading)→Hold your profit making trade till your trailing stop loss hit. Same way, Enter in your trade with proper stop loss and close your trade when ever your stop loss hits.------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- ------------------------- -------------------------

Live Comex Commodity Market


The Commodity Prices Powered by Focus ComTrendz - The Financial & Research Portal.

NSE Live HeatMap

04 June 2011

फिर एक क्रांति का उदय..आज से महा क्रान्ति का आगाज़ होता है...

सुप्रभात बंधूओ,

इंतजार खत्म हुआ...
आज से महा क्रान्ति का आगाज़ होता है.....

हमारे विरोधी कौन ?
जो या तो खुद भ्रष्ट हैं या फिर भ्रष्ट लोगों से पोषित होते हैं...
हमारी सभी मांगे राष्ट्रहित के लिए है...
इसका कोई विरोध नहीं कर सकता...

श्री सुभाष चन्द्र बोस को अपना आदर्श मानने वाले स्वामी रामदेव जी से देशद्रोही कांग्रेस सरकार क्यों डरी है
इसकी वजह एक बार निचे जरुर पढ़े--

रामदेव कहा, ‘मेरे पिछले 10 साल की फाइल तो क्या 10 जन्मों की फाइल भी ले आएं तो भी कोई रामदेव को खरीद नहीं सकेगा...

स्वामी रामदेवजी से ही क्यों डरती है कांग्रेस?
विदेशी लोगों का समर्थन करने वाली मिडिया क्यों पड़ी है स्वामी जी के पीछे ????

दोस्तों, क्या आपने कभी सोचा है स्वामी रामदेव जी से ही कांग्रेस क्यों परेशां है और डरती है, जानिए कारण:---

१-स्वामी रामदेवजी के तर्क के आगे कांग्रेस के तथाकथित प्रवक्ता ५ मिनट भी नहीं टिकेंगे...

२- स्वामी जी के पास कांग्रेस का वास्तविक इतिहास का साक्ष्य है और कांग्रेस के कारनामो का काला चिटठा है...

३- अभी तो बात आएगी मंच पर बहस की, जिसकी की आगे के किसी भी चुनाव में जोर देकर मांग की जायेगी, तब ये अज्ञानी प्रवक्ता मंच पर जनता को क्या जवाब देंगे, सरकार हर साल १३४ प्रकार के टैक्स से कितना पैसा जमा कराती है और ये पैसे कहा खर्च हो जाते है. मंदिरों का पैसा सरकार किस मद में खर्च कराती है जिसे सिर्फ हिन्दू दान देकर इकठ्ठा करता है, ये बहुत बड़ा प्रश्न है...

४-मंच पर ये बहस नहीं होगी की क्या विकास किया, बहस होगी की राहुल, सोनिया, चिदंबरम, पवार, मनमोहन, विलासराव देशमुख, अहमद पटेल, प्रणव मुखर्जी जैसे लोंगो के भी काले धन के खाते है क्या?... 

५- काले धन का इतिहास क्या है, पहले कपिल सिब्बल ने कहा कोई भी नुकसान २ जी घोटाले में नहीं हुआ है, फिर अहलुवालिया ने कहा की हा वास्तव में कोई घोटाला नहीं हुआ है, फिर मनमोहन ने कहा इसकी जाँच चल रही है, विपक्ष को टालते रहे, राजा जैसा आदमी जिसके पास अपनी मोबाइल को टाप अप करने का पैसा नहीं हो, यदि वह अपनी पत्नी क्र नाम ३००० करोड़ रुपया मारीशाश में जमा कर दे, क्या यह सब बिना सोनिया की जानकारी के कर सकता है, उस पार्टी में जहा पर बिना सोनिया के पूंचे कोई वक्तव्य तथाकथित प्रवक्ता नहीं दे सकते है, फिर आया महा घोटाला देवास-इसरो डील का जिसमे की २०५००० करोड़ की बैंड को मात्र १२०० करोड़ के १० साल के उधार के पैसे में दे दिया गया, भला हो सुब्रमनियम स्वामी जी का जिन्हें इन चोरो को नंगा कर दिया, हमारी कांग्रेसी और विदेशी मिडिया सुब्रमनियम स्वामी की तस्वीर हमेशा से गलत पेश किया है जब की वास्तव में भारत देश को ऐसे ही इमानदार नेताओ की जरुरत है जिसने कभी भी चोरी के बारे में सोचा ही नहीं, फिर आया कामनवेल्थ खेल का ९०००० करोड़ का घोटाला, फिर कोयला का घोटाला जिसमे कोयला मात्र १०० रुपये में १००० किलो बेचा जाता है और उसे बाजार में ४ रुपये किलो तक बेच जाता है, यह रकम अब तक २६ लाख करोड़ होती है,... 

६-इटली ८ बैंक और स्वीटजरलैंड के ४ बैंको को २००५ में भारत में क्यों खोला गया है और इसमे किसका पैसा जमा होता है , ये बैंक किसको लोन देते है और इनका ब्याज क्या है, इनकी जरुरत क्यों आ पड़ी भारत में जब की भारत के ही बैनकरो की बैंक खोलने की अर्जिया सरकार के पास धुल खा रही है, इन बैंको को चोरी छुपे क्यों खोला गया है, इन बैंको आवश्यकता क्यों है जब भारत में ८०% लोग सिर्फ २० रूपया प्रतिदिन कमाते है, इटली के बैंक वहा के माफिया चलाते है, इसका जबाब मंच पर टी वी के सामने माँगा जायेगा,...

७-भारत के किसानो की कमी से कमीशन लेने वाले चोर कत्रोची के बेटे को अंदमान दीप समूह में तेल की खुदाई का ठेका क्यों दिया गया २००५ में, किसने दिया ठेका, किसके कहने पर दिया ठेका, क्या वहा पर पहले से ही तेल के कुऊ का पता लगाकर वह स्थान इसे दे दिया गया जैसे की बहुत बार खबरों में अन्य संदर्भो में आती है, यह खबर क्यों छुपाई गयी अब तक, इसे देश को क्यों नहीं बताया गया, मिडिया क्यों इसे छुपा गई, और विपक्ष ने इसे मुद्दा क्यों नहीं बनाया...

८- सरकार ने पहले कहा की बाबा बकवास कर रहे है, काला धन नाम की कोई चीज नहीं है,...

९-फिर खबर आयी की काला धन है और सबसे ज्यादा भारतीयों का है, यह स्विस बैंको के आलावा ७० और दुसरे देसों में जमा है,...

१०- सरकार ने कहा की टैक्स चोरी का मामला है, हम उन देशो से समझौते कर रहे है, जिससे की दोहरा कर न देना पड़े,...

११- अरे उल्लू के पठ्ठों , यह टैक्स चोरी नहीं भारत देशको लूट डालने का मामला है जिसकी सजा किसान से पूंछो तो सिर्फ मौत देना चाहता है वह भी सब कुछ वसूल लेने के बाद,...

१२- फिर बात आई की यदि ये डकैत और लुटेरे इसमे से १५% टैक्स सरकार को दे तो इसे भारत के बैंको में जमा करने दिया जायेगा और किसी को यह हक़ नहीं होगा की वह पूछे की या इतना पैसा कैसे कमाया या लूटा. सरकार इस पर एक कानून ला रही है, क्यों, किसको बचाया जा रहा है, जिसने भी यह गद्दारी की है उसे तो भीड़ ही मार डालेगी, इन्ही लोगो की वजह से भारत में इतनी महागायी है की लोग शादी खर्च से बचने के लिए बेटियों की जान ले ले रहे है, किसान आत्महत्या कर रहा ई, गरीब दवा नहीं करा रहा है, बच्चे स्कुल नहीं जा रहे है, इन्हें तो किसी कीमत पर नहीं छोड़ा जा सकता है, ये यूरिया घोटाला करते है और यूरिया किसान को दुगुने दाम बचा जाता है, फिर गेहू सस्ते में खरीदा जाता है, और अब तो घोटाला ११५% हो जायेगा, ११५ चुराओ, १५ सरकार को देकर १०० रखा लो, इनको पैदा करने वाली माँ को थू थू....

१३- भारत के साथ जितने समझौते विदेशो से हुए है, उनका मतलब जनता को बता कर मंच पर पूंछा जायेगा अमेरिका जैसा,...

१४-हमारे देश में क्यों अनुसन्धान के लिए पर्याप्त पैसा नहीं दिया जाता है, यह कीसकी चाल है, जिसकी वजह से हम ५-१० गुना दाम में विदेशी चीजे खरीदते है,...

१५-ऐसे कौन से कारण है जिनके कारण हम नेहरू के द्वारा ट्रांसफर अफ पॉवर अग्रीमेंट १४ अगस्त १९४७ को दस्तखत करने के बाद भी आज तक विक्सित नहीं बन पाए, जब की हमारी जनता हफ्ते में ९० घंटा कम कराती है और कामचोर अंग्रेज सिर्फ ३० घंटा काम करते है,...

१६-क्या कारण है की हमारे ४७ रुपये में १ डालर और ९० रुपये में १ पौंड मिलता है, जब की १९४७ में १ रुपये में १ डालर मिलता था....

१७- हम किसके कहने पर अरब देशो से और इरान से अभी तक अच्छा रिश्ता नहीं रख पाए,...

१८-क्या कारण है की हमारे देश में एक भी सोलर ऊर्जा वैज्ञानिक नहीं है और दुनिया भर के परमाणु वैज्ञानिक है जो हमें हमेशा झूठा अश्वाव्हन देते है की यह परमाणु बिजली सस्ती और निरापद है भारत की परमाणु से सम्बंधित कुल बाजार ७५० लाख करोड़ का होगा. जब की हम भारत में ४००००० मेगावाट सोलर बिजली बना सकते है,...

१९-हम अभी तक सुरक्षित अन्ना भण्डारण की व्यवस्था क्यों नहीं बना पाए जब की हमारे पास धन की कमी ही नहीं है, क्योकि अन्न को सडा दिखाकर उसे कौड़ियो के भाव शराब माफिया को बचा जाता है जब की गरीब अन्ना बिना मर रहा है, इसके लिए तो कोई एक व्यक्ति जिम्मेदार होगा, उसकी सजा क्या है,...

२०- सरकार लोगो की इ-मेल आई दी क्यों ब्लाक कर रही है और नेट से सामग्री क्यों हटवा रही है,...

२१-जब वोटिंग मशीन से घपला किया ज़ा सकता है तो क्यों न इसे हटा दिया जाय और पर्ची वाली वोटिंग लाई जाये....

२२- मीडिया को निष्पक्ष बनाने के लिए सरकार क्या कदम उठा रही है, सभी भारतीयों को पता चल गया है की मिडिया , टीवी और पत्रिकाए सरकार को बिक चुकी है, बड़े शर्म की बात है, शाम को सिर्फ ४ रोटी खाने के लिए भारत माता से गद्दारी क्यों, मिडिया वालो रात में सोकर सोचो, नहीं सो पाओगे, क्या तुम्हारी जननी तुमसे यही आशा करती है....

दोस्तों, 
स्वामी जी की टीम निरक्षरों की नहीं बल्कि बहुत पढ़ी लिखी, ज्ञानी, दानी, समर्पित, इमानदार और राष्ट्रप्रेमी टीम है, इसमे ज्यादातर इंजिनियर और आई टी के लोग जुड़े है, 

४ जून के बाद का समय सरकार के लिए इतना आसान नहीं होगा.
स्वामी जी के पास तन, मन और धन की कमी नहीं है, उन्हें तो सिर्फ इशारा करने की देर है,
जय भारत

अब भी तुम ना संभले तो कल को ये "तुम्हारी संतान बेच देंगे"...
देश को बचाने और सम्रधशाली बनाने के लिए समर्थन करे...
आप जहां भी हैं वहीं से समर्थन दे और इस विरोध प्रदर्शन में भाग ले, आप अपने जिला मुख्यालय में जाकर अपना विरोध जताए...

- भारत स्वाभिमान सत्याग्रह का.....रामलीला मैदान पर लोगों का जमघट

जो भाई बहन दिल्ली नहीं पहुच पाए है वो कृपया फेसबूक और भारत स्वाभिमान की वेबसाइट पर कमेंट्स करके अपना समर्थन देते रहे....

एक छोटी सी आहुति तो दे ही दीजिये इस प्रयास मैं

जब तक हमारी 100 प्रतिशत मांगें प्रामाणिकता व वैधानिकता के साथ नहीं मानी जाएगी तब तक हमारा सत्याग्रह जारी रहेगा
हम किसी राजनीतिक पार्टी के खिलाफ बगावत या विद्रोह नहीं करेंगे..
हम संवैधानिक तरीके से और शांतिपूर्वक राष्ट्रहित के मुद्दों पर लड़ेंगे..
हम हिंसक आंदोलन नहीं करेंगे..अगर दबाने या कुचलने की कोशिश की तो ठीक नहीं होगा..
जय माँ भारती....
जय भारत स्वाभिमान..

03 June 2011

परम पूज्य स्वामी रामदेवजी अनिश्चित कालीन उपवास पर बैठेंगे

परम पूज्य स्वामी रामदेवजी अनिश्चित कालीन उपवास पर बैठेंगे
Location: दिल्ली के रामलीला मैदान में
Time: ‎4:30AM Saturday, June 4th
बाबा रामदेवजी ने कहा कि सत्ता किसी भी पार्टी की हो,
व्यवस्था ऐसी होनी चाहिए कि कोई भी देश के साथ भ्रष्टाचार करने की हिम्मत न करे...

लाखों लोग करेंगे अनशन, ऐसी क्या मज़बूरी है 
जो नहीं जानते गौर करे , ये मुद्दे बहुत जरुरी है 

"आन्दोलन का एजेंडा "
जाग उठे हैं लोग देश में, आंधी चलने वाली है
भूख और भ्रष्टाचार में डूबी, रात गुजरने वाली है
चार जून को राम देव जी, दिल्ली को ललकारेंगे
हम भी बाबा साथ तुम्हारे , लाखों लोग पुकारेंगे
लाखों लोग करेंगे अनशन, ऐसी क्या मज़बूरी है
जो नहीं जानते गौर करे , ये मुद्दे बहुत जरुरी है
 दुनिया के बाकि देशों में, नहीं चलते नोट हजारी है
क्यों भारत में हैं बड़े नोट , भारत की क्या लाचारी है
बड़े नोट ही नकली छपते , छोटे नोटों में घाटा है
नकली नोट का देश में आना , अपने मुहं पर चांटा है
भ्रस्टाचारी के घर दफ्तर , रेड जहाँ भी मारी है
रजाई , गद्दे , तकियों  तक से , निकले नोट हजारी है
बड़े नोट गर बंद किये तो , आतंकी खुद मर जायंगे
नकली नोट नहीं होंगे, तो बन्दूक कहाँ से लायेंगे
बड़े नोट बंद करवाना , नहीं मुद्दा कोई निराला है
हुआ तीन बार भी पहले , ये फिर से होने वाला है
बड़े नोटों को बंद करो , ये पहली  मांग हमारी है
पड़ा जो इसकी खातिर मरना , इसकी भी तयारी है
फिर ना समझना बेवकूफ है , जनता भोली भाली है 
जाग उठे हैं लोग देश में, आंधी चलने वाली है
भूख और भ्रष्टाचार में डूबी, रात गुजरने वाली है

आजादी के बाद देश को, नेता इतना लूट गए
खादी से विश्वाश के अपने , धागे सारे टूट गए
भ्रष्टाचारी नेता अधिकारी , भारत को खाते जाते हैं
लूट लूट के देश का पैसा , स्विस बैंक पहुंचाते हैं
स्लम डोग हम  कहलाते  , गिनती होती कंगलो में
क्योंकि,
400 लाख करोड़ खा गए नेता , पिछले पैंसठ सालो में
जहाँ डाल डाल पर सोने की  चिड़िया  करती थी बसेरा 
वहां भूख के कारण एक मिनट में , मरते लोग है तेरह
भूख तोडती लोगों के धरम , धर्य , ईमान को
नक्सलवादी बना दिया , भूखे मरते इंसान को
स्विस बैंक में जमा खजाना जब वापस आ जायगा
अर्थ व्यवस्था चमकेगी , हर भूखा खाना खायेगा
UN बिल को पास करो , जो काले धन को लायेगा
जब पैसा वापस आ जाएगा , हर गाँव करोडो पायेगा
रुपया आसमान में होगा , कीमत पर इतराएगा
डॉलर उसका होगा चाकर , पैर दबाने आएगा
लोकपाल जनता की लाठी , मारो तो आवाज भी है
जाँच सभी की हो चाहे , देश का वो सरताज भी है
लोकपाल कमजोर बने , ये दाळ ना गलने वाली है
जाग उठे हैं लोग देश में, आंधी चलने वाली है
भूख और भ्रष्टाचार में डूबी, रात गुजरने वाली है

अंग्रेज गए जब भारत से , आजादी हमको सोंप गए
जितने भी  क़ानून थे काले , सारे हम पर थोप गए
34735  पुराने कानूनों में से  कुछ उदाहरण देखे :-
कहने को आजाद है भारत , पर क़ानून पुराने है
भट्ठा और परसोल के किस्से , सब लोगों ने जाने हैं
IPC और पुलिस एक्ट , और जाने कितने क़ानून यहाँ
भारत माँ के स्वाभिमान का , हर दिन करते खून यहाँ
फसलों की कीमत आज के दिन भी , तय करते अधिकारी है
इनकम  टैक्स के भेद समझना , सर दर्द बड़ा ही भारी है
बड़ी कंपनी ठेका लेकर , जंगल के जंगल साफ़ करे
एक पेड भी आप ने काटा , क़ानून कभी ना माफ़ करे 
 ऐसे हजार क़ानून पुराने , जनता आज भी झेल रही
और सरकारें   बैठ मजे से , 2 जी 3 जी खेल रही 
न्याय नहीं है न्यायालों में ,   जब भी माँगा तारीख मिली
भोपाल कांड एक बड़ा उदाहरण , ना सजा मिली ना सीख मिली
साढ़े तीन सो साल लगेंगे, पैंडिंग केस निपटने में न्याय व्यवस्था बुरे हाल में,
देखा सारे ज़माने ने   क्यों हमे खिलाये जाती है,
विकसित देशो की  बैन दवा  क्यों नकली दवा के सौदागर , कभी न पाते कोई सजा 
क्यों करदाता के खर्चे पर , आतंकी बिरयानी खाते हैं 
क्यों उन्हें जवाई बना कर के , हम खुद साले बन जाते हैं
फाँसी  का कानून बने, जो कोई भ्रष्टाचार करे
मिलावट करने वालों को , और जो कोई बलात्कार करे
ऐसे सख्त कानून बिना , अब बात ना बनने वाली है 
जाग उठे हैं लोग देश में, आंधी चलने वाली है
भूख और भ्रष्टाचार में डूबी, रात गुजरने वाली है

छोटे उद्श्यों में फंस कर , ना जीवन बेकार करो
25 करोड़ भूखे हैं हर दिन , उनका थोडा विचार करो
चुपचाप बैठ के अपने घर में , ना सिस्टम पर क्रोध करो
या बाबा के साथ में आओ , या उनका  विरोध करो
गर समझो बाबाजी ठीक कहैं, सच भी होकर निर्भीक कहैं
बाबा हम भी साथ तुम्हारे , जब नि`कले मुख से ये बोल
टोल फ्री एक नंबर ले लो , 02233081122 कर देना उस पर मिस कोल
अब  उठो समर्थन दो उनको  , वर्ना देश प्रेम ये जाली है
जाग उठे हैं लोग देश में, आंधी चलने वाली है
भूख और भ्रष्टाचार में डूबी, रात गुजरने वाली है

बाबा रामदेव जी ने सही कहा की अब आन्दोलन उनके हाथ में नहीं रहा ,
यह एक करोड़ पर्तयक्ष और सौ करोड़ देश के लोगो की भावनाओ से जुड़ा हुआ है
समय रहते श्री मनमोहन सिंह  को निर्णायक फैसला करना होगा की वो काले धन की वापसी चाहतें हैं या नहीं ?
अब और देरी करना खतरे से खाली नहीं है, आम नागरिक न बाबा की और न सरकार की बात मानेगा और आन्दोलन एक नया रूप ले सकता है , जो देश के लिए घातक हो सकता है, लोगो ने बाबा के आह्वान पर दिल्ली पहुंचना शुरू कर दिया है, आज ही देश हित में श्री मनमोहन सिंह को दूरदर्शन पर निर्णायक घोषणा करनी चाहिए, अब एक दिन की भी देरी देश को महँगी पड़ेगी,
सभी से अनुरोध है की इस सन्देश को सभी तक भेजें...

4 जून 2011 को दिल्ली के रामलीला मैदान में स्वामीजी स्वयं अनिश्चित कालीन उपवास पर बैठेंगे
इस आंदोलन मे अपना सहयोग दे ..

गुप्तचर संस्था IB ने 'खांग्रेस सरकार' को रिपोर्ट किया है की 15 दिनों मे 20 करोड़ लोग स्वामी रामदेवजी के साथ मे जुड़ेंगे और यह आकडा 50 करोड़ को जल्दी ही छु लेगा इसलिए सरकार के हाथ पाँव फुले हुए है......
अरे भई 50 करोड़ लोगो का जुड़ना स्वाभाविक है.....
बाबा तो पूरे देश के 1 अरब लोगो को जोड़ने निकले थे .....
बाबा ने मीडिया या मोमबत्ती ब्रिगेड के सहारे कोई अनसन का उन्माद पैदा नहीं किया......
मेहनत और कड़ी धूप मे 1 लाख किमी की यात्रा की है और गाँव गाँव मे सभाए की है असर तो देखने मिलेगा ही....

 इस देश के नेताओ ने अपना काम ईमानदारी से नहीं किया, इस लिए रामदेव बाबा को यह काम अपने हाथ में लेना पड़ रहा है...

 ये क्रांति की लहर ऐसी होनी चहिये  की ४ जून से पहले ही भ्रष्टाचारी  लोग काप उठे .
जुट जाओ बंधुओ

वन्दे मातरम ||   वन्दे मातरम  ||  वन्दे मातरम ||   वन्दे मातरम ||

29 May 2011

Gold & Silver Sup/Res


Silver Spot
Res- $-38.78 / $-40.11 / $-41.17
Sup- $-37.20 / $-35.80 / $-34.48 / $-32
Focus ComTrendz
------------------

Gold Spot
Res- $-1541 / $-1577
Sup- $-1519 / $-1514 / $-1480
Focus ComTrendz
------------------

MCX 30May11


ALUMINIUM-31-May
PP-118.2
Buy Above-121.1
Sell-120.6
Res-120.1
Trendz-119.4-118.6
Sup-117.9
Buy-117.4
Sell below-116.9

>>FCT<<

COPPER-30-Jun
PP-416.9
Buy Above-421.3
Sell-420.4
Res-419.5
Trendz-418.3-417.1
Sup-415.9
Buy-415.0
Sell below-414.1

>>FCT<<

CRUDEOIL-20-Jun
PP-4558
Buy Above-4584
Sell-4577
Res-4569
Trendz-4559-4549
Sup-4539
Buy-4531
Sell below-4524

>>FCT<<

GOLD-4-Jun
PP-22475
Buy Above-22620
Sell-22595
Res-22570
Trendz-22537-22503
Sup-22470
Buy-22445
Sell below-22420

>>FCT<<

LEAD-31-May
PP-114.3
Buy Above-115.3
Sell-115.0
Res-114.7
Trendz-114.3-113.9
Sup-113.5
Buy-113.2
Sell below-112.9

>>FCT<<

NATURALGAS-27-Jun
PP-203.5
Buy Above-210.2
Sell-209.0
Res-207.7
Trendz-206.1-204.5
Sup-202.9
Buy-201.6
Sell below-200.4

>>FCT<<

NICKEL-31-May
PP-1044
Buy Above-1057
Sell-1054
Res-1051.4
Trendz-1047-1043.3
Sup-1039.2
Buy-1036
Sell below-1033

>>FCT<<

SILVER-5-Jul
PP-57363
Buy Above-58144
Sell-57984
Res-57824
Trendz-57611-57399
Sup-57186
Buy-57026
Sell below-56866

>>FCT<<

ZINC-31-May
PP-101.9
Buy Above-102.8
Sell-102.6
Res-102.4
Trendz-102.1-101.9
Sup-101.6
Buy-101.4
Sell below-101.2

>>FCT<<

GOLD-$-Spot
PP-1532.3
Buy Above-1544.6
Sell-1542.4
Res-1540.3
Trendz-1537.4-1534.5
Sup-1531.6
Buy-1529.5
Sell below-1527.3

>>FCT<<

SILVER-$-Spot
PP-37.83
Buy Above-38.35
Sell-38.24
Res-38.1
Trendz-37.97-37.8
Sup-37.7
Buy-37.55
Sell below-37.43

>>FCT<<

26 May 2011

Gold & Silver Spot


Silver Spot
Res- $-38.78 / $-40.45
Sup- $-35.20 / $-34.37 / $-32
Focus ComTrendz
------------------

Gold Spot
Res- $-1531
Sup- $-1507 / $-1478
Focus ComTrendz
------------------

07 May 2011

Silver & Gold BreakOut Level


Silver Spot Close 35.528
If Cross $-36.5
Next Trgt  $-39
Support $-32 & $-34.2

Focus ComTrendz
-----------------------------------
Gold Spot Close 1495.1
Res-$-1505 & $-1525
Sup-$-1475 & $-1465

Focus ComTrendz
---------------------------------

08 April 2011

एक और सत्याग्रह...

एक और सत्याग्रह

है यह जनता का सत्याग्रह, मत कम आँको इस आगाज़ को,
बण्डल दबाये, सोना दबाया, क्या दबा सकोगे इस आवाज़ को ?

पड़ोस का कम-अक्ल नेता भी, शहर का सबसे अमीर है,
जो मरता देश के नाम पर, वह आज भी फकीर है |
बेच खाया देश को नेताओं ने, की देश के इज्जत की भी परवाह नहीं,
कॉमनवेल्थ पर हंसी सारी दुनिया, २जी, आदर्श पे भी इनकी आह नहीं |
गैरों को भी घूस का बण्डल दिखा -दिखा, लुटाया देश की लाज को,
है यह जनता का सत्याग्रह, मत कम आँको इस आगाज़ को |

जीत से मदहोश सड़क पर, अट्टहास भारतियों की क्या सुनी नहीं,
न बाँट सकोगे अब धर्म-जाति के नाम पर, मन में यह बात क्या अबतक घुनी नहीं |
कल तक भले थे बंद हम संकीर्णता में, पर प्रश्न है अब आत्म - सम्मान का,
सूरज को चूमता नागरिक कैसे सुने, कि 'यह देश है बेईमान का' |
है उज्जवल भविष्य आगे खड़ा, न लूटने देंगे 'आज' को,
है यह जनता का सत्याग्रह, मत कम आँको इस आगाज़ को |

मिश्र, तुनिशिया, लीबिया, उदाहरण पड़े हैं लाग से,
२१ वीं सदी का यह इंसां है, खेलो न अब तुम आग से |
एक गाँधी का सत्याग्रह ही, कर गया था अंग्रेजों को लहुलुहान
१०० करोड़ 'अन्ना' के साथ हैं, अब लो न सब्र का इम्तहान |
काले अंग्रेजों अब यह सुन लो, दिन ढल गया अब 'राज' को ,
है यह जनता का सत्याग्रह, मत कम आँको इस आगाज़ को |

06 April 2011

Welcome to Stand with Anna Hazare



Welcome to Stand with Anna Hazare

भ्रष्टाचार से निपटने का सबसे कारगर रास्ता हो सकता है जन लोकपाल बिल। अन्ना हजारे के अनशन पर बैठने से पहले इसी वर्ष 30 जनवरी को 60 शहरों में लाखों लोग सड़कों पर उतरे थे। आखिर क्या है जन लोकपाल बिल? मौजूदा व्यवस्था क्या है? सरकार ने किस तरह का बिल लाना चाहती है? उस पर क्या है आपत्ति?

वर्तमान व्यवस्था क्या?

१. लोकपाल है ही नहीं। लोकायुक्त सलाहकार की भूमिका में।

२. लोकायुक्त की नियुक्ति मुख्यमंत्री हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस और नेता प्रतिपक्ष की सहमति से करता है।

३. सीबीआई और सीवीसी सरकार के अधीन।

४. जजों के खिलाफ जांच के लिए चीफ जस्टिस की अनुमति जरूरी।

सरकार द्वारा तैयार लोकपाल बिल

१. लोकपाल तीन-सदस्यीय होगा। सभी रिटायर्ड जज।

२. चयन समिति में उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, दोनों सदनों के नेता पक्ष और नेता प्रतिपक्ष, कानूनमंत्री और गृहमंत्री।

३.मंत्रियों, एमपी के खिलाफ जांच और मुकदमे के लिए लोकसभा/ राज्यसभा अध्यक्ष की अनुमति जरूरी। प्रधानमंत्री के खिलाफ जांच की अनुमति नहीं।

४. लोकायुक्त केवल सलाहकार की भूमिका में। एफआईआर से लेकर मुकदमा चलाने की प्रक्रिया पर विधेयक मौन। जजों के खिलाफ कार्रवाई पर मौन।

क्या है आपत्ति?

१. जजों को रिटायर होने के बाद सरकार से उपकृत होने की आशा रहने से निष्पक्षता प्रभावित होगी।

२. भ्रष्टाचार के आरोपियों के ही चयन समिति में रहने से ईमानदार लोगों का चयन होने में संदेह।

३. बोफोर्स, जेएमएम सांसद खरीद कांड, लखूभाई पाठक केस जैसे मामलों में प्रधानमंत्री की भूमिका की जांच ही नहीं हो पाएगी।

४. लोकायुक्त भी सीवीसी की तरह बिना दांत के शेर की तरह रहेगा। केजी बालाकृष्णन जैसे जजों के खिलाफ कार्रवाई संभव नहीं होगी।
लोकायुक्त केवल सलाहकार की भूमिका में। एफआईआर से लेकर मुकदमा चलाने की प्रक्रिया पर विधेयक मौन। जजों के खिलाफ कार्रवाई पर मौन।


५. राजनीतिक हस्तक्षेप की संभावना रहेगी।


जन लोकपाल विधेयक

१. ग्यारह सदस्यीय लोकपाल। चार का लीगल बैकग्राउंड जरूरी, अन्य दूसरे क्षेत्रों से।

२. चयन समिति में सीएजी, जानेमाने कानूनविद, मुख्य चुनाव आयुक्त, और नोबेल और मैग्सेसे जैसे अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित।

३. प्रधानमंत्री, मंत्रियों, एमपी के खिलाफ जांच और मुकदमे के लिए लोकपाल/ लोकायुक्त की अनुमति जरूरी। स्वत: संज्ञान का भी अधिकार।

४. सीवीसी और सीबीआई केंद्र में लोकपाल और राज्यों में लोकायुक्त के अधीन।

आठ बार पेश होने के बावजूद इसलिए बिल पास नहीं

ठ्ठ देश में लोकपाल की स्थापना संबंधी बिल की अवधारणा सबसे पहले 1966 में सामने आई। ठ्ठ इसके बाद यह बिल लोकसभा में आठ बार पेश किया जा चुका है। लेकिन आज तक यह पारित नहीं हो पाया। ठ्ठ पूर्व प्रधानमंत्री इंद्रकुमार गुजराल के कार्यकाल में एक बार 1996 में और अटलबिहारी वाजपेयी के कार्यकाल में दो बार 1998 और 2001 में इसे लोकसभा में लाया गया। ठ्ठ वर्ष 2004 में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने वादा किया था कि जल्द ही लोकपाल बिल संसद में पेश किया जाएगा। अब तक सरकार ने इसकी सुध नहीं ली।
ठ्ठ इस बिल के तहत प्रधानमंत्री को लाया जाए या नहीं इस पर लंबे समय से मशक्कत चल रही है। अब तक कोई नतीजा नहीं।

५. जजों के खिलाफ जांच के लिए लोकपाल/लोकायुक्त को अधिकार।

05 April 2011

आप क्या करेगे... और कुछ नहीं...


अन्ना हजारे ने PM को अल्टीमेटम दिया है..
भ्रष्टाचार के खिलाफ जन लोकपाल बिल की तर्ज पर एक सख्त कानून पास करे
ताकि
भ्रष्टाचारियों को जल्दी से जल्दी सख्त सजा मिल सके..

आज दिल्ली में 25 लाख लोग देश के लिए उपवास करेंगे...
आप क्या करेगे...
और कुछ नहीं...
तो एक नंबर मै दे देता हूँ...
02261550789
पर missed call कर सकते हो...


अन्ना हजारे आंधी हैं..
देश के महात्मा गांधी हैं..
आजादी की दूसरी लड़ाई...
भ्रष्टाचार व भ्रष्टाचारियों से मुक्त भारत...


कोई भ्रष्टाचारि नही सुधरेगा...
हम आम जनता को मिलकर सुधारना पडेगा...
बज गया है बिगुल... अब मिटेगा भ्रष्टाचार...


छोटे दीपक की आग को तेज हवा बुझा डालती है,
लेकिन वही तेज हवा वन मे लगी आग को बढने मे सहायता देती है,
यह एक दृढ तथ्य है कि कमजोर की कोई सहायता नही करता..
आज हम एकजुट हैं तो अभी एक पार्टी (भाजपा) समर्थन देने के लिये सहमत हुई
यदि ये एकजुटता और बढेगी तो सभी समर्थन देंगे
और
जनलोकपाल बिल को पास करने के लिये मजबूर होंगे..!!!



भले ही हम हिंदू हो, मुस्लिम हो, या सिख हो
अपने धर्म से पहले हम को देश के बारे में सोचना है
जयहिंद

04 April 2011

आजादी की दूसरी लड़ाई में आपकी जरूरत है इसदेश व समाज को....क्या आप अपना योगदान नहीं देंगे.....?


जरा सोचिये
जनता त्रस्त हे और सरकार मस्त

भारतीय क्रिकेट टीम ने विश्व कप जीतकर करोड़ों भारतीयों का सपना पूरा कर दिया..

लेकिन आप को क्या मिला.. ??
टेक्स आपने दिया, समय आपने बिगाड़ा,
अब नेता लोग जीतने वालो लो जनता के पेसे से मालामाल कर के वाह-वाही लूट रहे हे..

लेकिन

कल 5 अप्रेल 2011 से इस देश में एक असली वर्ल्ड कप जीतने का खेल शुरू होने जा रहा है..
जिसे जीतने के बाद इस देश में हर इंसान को..
सत्य, न्याय व ईमानदारी आधारित सम्मान मिलेगा..
भ्रष्ट, दागी एवं चरित्रहीन चोर नेताओं जो उच्च संवेधानिक पदों पे बैठे हैं और उनके साथ का व्यापारी वर्ग ने सहनशील हिन्दुस्तानी मानसिकता का नाजायज फायदा उठाने के लिए ना जाने कितनी तिकड़में भिड़ा रखी हैं....


इन लोगो को असली जगह तिहार जेल या फांसी के फंदे तक पहुँचाने की व्यवस्था की जाएगी...
इस खेल के नायक हैं अन्ना हजारे जी और खिलाडी हैं इस देश का हर आम नागरिक...
जितने लोगों ने क्रिकेट वर्ल्ड कप मेच देखा, अगर उतने ही लोग दिल से 5 अप्रेल 2011 से इस देश में एक असली वर्ल्ड कप जिताने का संकलाप करे तो क्या हमें एक बेहतर सरकार नहीं मिल सकती ?

आपका भी स्वागत है इस महान इंसानियत के वर्ल्ड कप में एक महान खिलाडी के रूप में...
आइये दिल्ली के जंतर-मंतर पर....

आजादी की दूसरी लड़ाई में आपकी जरूरत है इसदेश व समाज को....क्या आप अपना योगदान नहीं देंगे.....?

10 February 2011

देश वासियों जागो


देश वासियों जागो

पिछले पचास-वर्षों में भ्रष्ट राजनेताओं और भ्रष्ट अधिकारीयों ने दीमक की तरह देश को खोखला करके रख दिए है

हमे भ्रष्ट राजनेताओं और भ्रष्ट अधिकारीयों के खिलाफ जाने का पूर्ण अधिकार है

"भारतीय गरीब है लेकिन भारत देश कभी गरीब नहीं रहा"

मेरे देश के नेता सोना निगलें, निगलें हीरे-मोती,
बंगलों में आराम से सोयें, जनता हरदम रोती !!


इस देश को बर्बादी से बचाने के लिए हमें ही याने जनता को ही जागना पड़ेगा वर्ना ये नेता तो बेच कर खा जायेंगे इस देश को !


जागो भारत जागो !
इनकलाब नया लाओ भारत।
जागो भारत जागो !

बन के पुजारी लोकतंत्र ये, लूट रहे मंदिर सब कोई,
मिटा नहीं अस्तित्व देश का, नंगे बन फिरते सब कोई।

अंधी - लंगड़ी - लूली हो गयी, संसद देश की, गूँगी हो गयी,
भारत का स्वाभीमान खो गया, संसद का ईमान खो गया ।

सोने की चिड़ियां भूखी-प्यासी, दाने-दाने को तरसाती,
इनके इरादे नेक नहीं अब, भ्रष्ट सब एक हो गये,



सत्ता के सब अंधे हो गये।
खेत बैच दे, देश बैच दे, सत्ता की जागीर बैच दे,
माँ का आँचल, दूध बैच दे, बलदानी इतिहास बैच दे,
भगत सिंह का नाम बैच दे, और बैच दे भारत को।

संसद की ताकत पहचानो, वोटों की ताकत जानो,
घर-घर अलख जगा दो आज, इनके इरादे जानो आज।

जागो भारत जागो !
इनकलाब नया लाओ भारत।
जागो भारत जागो !


सदियो की ठण्डी बुझी राख सुगबुगा उठी,
मिट्टी सोने का ताज् पहन इठलाती है।
दो राह, समय के रथ का घर्घर नाद सुनो,
सिहासन खाली करो की जनता आती है।'

06 February 2011

उठो जागो भारतवासियों

दोस्तों कृपया ध्यान दे ,


आप सभी से मुझे एक जरुरी बात करनी हैं,
दोस्तों आप सभी के लिए एक बुरी खबर है, खबर ये है की हमारा देश फिर से गुलाम होने वाला है ,
कारण ये है दोस्तों के आज से 250 साल पहले एक इस्ट इंडिया नाम की कंपनी हमारे देश में आयी  थी और उसने हमारे देश को 250 साल तक  बहुत बुरी तरह से लूटा , कितने बुरी तरह से लूटा ये एक छोटे से उदहारण से  बताता हूँ.


रोबेर्ट क्लाएव  नाम का एक अंग्रेज ऑफिसर ने सिर्फ कलकत्ता से 900 सोने चांदी  के पानी के बड़े बड़े जहाज भर कर लुटे थे और ये बयान उसने 1840 में ब्रिटिश पार्लियामेंट में दर्ज कराया” |


ये सब क्यों हुआ
क्योंकि :-
1. लोग विदेशी सामान खरीदते हैं इस से मुनाफे का पैसा हमारे देश से बाहर चला जाता है और धीरे धीरे हमारा देश गरीब होता जाता है , यहाँ के छोटे छोटे उद्योग धंधे बंद होते जाते है और लोग बेरोजगार होते जाते है |


2. वो एक इस्ट इंडिया कंपनी थी जिसने हमारे देश तो इतना लूटा आजादी से पहले , आपको जान कर हैरानी होगी  की वैसे ही पांच हजार कंपनी आज हमारे देश में घुस गयी हैं और हमारे देश को धीरे धीरे गुलामी की तरफ ले जा रही हैं | क्योंकि ये एक धीमी प्रक्रिया  है  इस लिए हमको पता नहीं चल पता की हम धीरे धीरे गुलाम और देश गरीब होता जा रहा है| अब तो अमरीका भी स्वदेशी का महत्व समझ चुका हैं और उन्होंने Made in America  नाम का बिल पास कर के स्वदेशी को अनिवार्य कर दिया है
इस लिए बाजार से  कम से कम जीरो तकनिकी का सामान तो केवल स्वदेशी स्वदेशी ही खरीदे .
इसको मैं एक ऊदाहरण से समझाता हूँ .
अगर आपने  “पीपली लाइव” नाम की एक हिंदी  फिल्म  देखी हो तो उसकी  लास्ट की नम्बरिंग में बताया जाता है की 1991 से 2001 के बीच हमारे देश के 80 लाख किसानो ने  खेती करना छोड़ दिया और वो शहरों   में आ गए मजदूरी करने के लिए |”


3. किसान जो देश के अर्थव्यवस्था की रीढ़ होता था आज उसकी औसत मासिक कमाई 2000 रुपये से भी कम हो गयी है| यानी देश का किसान गरीबी रेखा के नीचे आ गया है . ये हमारे देश की गलत नीतियों और गलत व्यवस्थाओं के कारण ऐसा हो रहा है.
 इसके अलावा भी हमारे देश में बहुत से गलत व्यवस्थाये है .


4. हमारे देश के सुप्रीम कोर्ट के जज कहते हैं के देश की अदालतों में 3.5 करोड़ केस पेंडिंग पड़े हैं . और अगर कोई नया केस न लिया जाए और इन्ही केसों को निपटाया जाए तो इनको निपटने में 350 साल लगेंगे .
तो ये है हमारी देश के न्याय व्यवस्था का हाल .


5. हर साल हमारे देश में 50 लाख टन अनाज बारिश में सड जाता है क्योंकि हमारी सरकारे उसको बारिश से बचा कर नहीं रख पाती |
50 लाख टन अनाज इतना ज्यादा अनाज होता है के इस से पूरे देश के गरीब लोगो को 2 साल तक मुफ्त में खाना खिलाया जा सकता है .लेकिन  सिर्फ हमारे ख़राब मैनेजमेंट के कारण ये ख़राब हो जाता है |
 ये है हमारी देश की खाद्य व्यवस्था का हाल |


6. आजादी के समय पर हमारे देश में 10 प्रतिशत लोग गरीब थे| भारत सरकार अनुसार जिसको दो टाइम का खाना मिल जाए वो गरीब नहीं है. वो अमीर है . ये है भारत सरकार की गरीबी की परिभाषा | तो 1947 के समय ऐसे लोगो की संख्या 10 प्रतिशत थी जो अब बढकर 70 प्रतिशत हो गयी हैं |
हमारे देश में 120 करोड़ लोग हैं जिसमें से 84 करोड़ लोग हर रोज केवल 20 रुपये पर गुज़ारा करते है |


7. हमारे देश में अपना  इलाज केवल 35% लोग ही करवा पाते हैं बाकी के 65 % लोग तो इलाज करवा ही नहीं पाते क्योंकि जिस देश में 84 करोड़ लोग हर रोज केवल 20 रुपये पर गुज़ारा करते हों वो लोग इलाज कहाँ से करवाएँगे .
ये है हमारे  स्वास्थय व्यवस्था का हाल .


8. 1760 में “Mackaule” नाम का एक अंग्रेज ऑफिसर भारत आया था उसने 2 फरवरी 1835  को  ब्रिटिश पार्लियामेंट में एक बयाँ दर्ज करवाया के
मैं 17 साल तक पूरे भारत में घुमा हूँ और मुझे कोई भी गरीब , अनपढ़ , बेरोजगार , कोई भिखारी नहीं मिला.|
सिर्फ 250 साल पहले तक हमारा देश इतनी अच्छी हालत में था . और आज ये हालत हैं के हमारे देश में हर साल 2 करोड़ बच्चे पैदा होते है और उनमें से हर साल 42% बच्चे पांचवी कक्षा से पहले ही स्कूल छोड़ देते हैं और कॉलेज तक केवल 11% बच्चे ही  पहुँच पाते हैं
ये है हमारी शिक्षा व्यवस्था का हाल .


9. जिस देश के आधे बच्चे अनपढ़ रह जाते हो उसका भविष्य कैसा होगा.
आपको जान कर हैरानी होगे के आजादी से पहले अंग्रेजो ने जितना हम को लूटा था आजादी के बाद हमारे देश के भ्रष्ट नेताओ और अफसरों ने उससे ज्यादा हमको लूटा है . करीब 300 लाख  करोड़ रूपया नेताओं ने स्विस बैंक में जमा करवा रखा है
इसकी ज्यादा जानकारी के लिए संजय दत्त की “Knock Out” नाम की  एक हिंदी फिल्म देखे.
300 लाख  करोड़ रूपया इतना ज्यादा रूपया होता है की अगर ये भारत में वापस आजाए तो भारत देश पर चढ़ा कर्ज हम 13 बार चुका सकते हैं | भारत में 6.5 लाख गाँव है हर गाँव को 100 करोड़ रुपये मिलगा . 100 करोड़ रुपये से एक गाँव में स्कूल , कॉलेज, अस्पताल , उद्योग धंधे सड़के , सीवरेज सिस्टम सभी काम हो सकते हैं. फिर किसी को नोकरी करने के किये अपना  गाँव छोड़कर शहर नहीं आना पड़ेगा .
ये पैसा हमारा पैसा है
ये इतना ज्यादा पैसा है की भारत में  कभी किसी को टैक्स देने के जरुरत नहीं पड़ेगी .ये इतना ज्यादा पैसा है की भारत के हर आदमी को 2000 रूपया अगले 60 साल तक हर महीने दिया जा सकता है.


लेकिन ये पैसा वापस आएगा  कैसे .


1. जिन लोगों ने बाहर जमा करवा रखा है वो तो वापस लायेंगे नहीं .
कोई एक आदमी इसको वापस ला नहीं सकता .
इस के लिए लोगों में जागरूकता के जरुरत है और जागरूक लोगो में संगठन की जरुरत है |


2. जिस दिन देश के हर आदमी को इन बातो का पता चल जायगा उस दिन देश में क्रांति आ जायगी और ये पैसा वापस आ जायेगा .


3. आपको जानकार ख़ुशी होगी के इसके लिए एक आन्दोलन की शुरुआत हो चुकी है और आन्दोलन का नाम है भारत स्वाभिमान आन्दोलन |
भारत स्वाभिमान आन्दोलन की शुरुआत की है स्वामी रामदेव जी ने |


इस आन्दोलन की ज्यादा जानकारी के लिए आप देखिये टीवी पर आस्था चैनल हर रात को 8 बजे या संस्कार चैनल  हर रात को 9 बजे .
जो लोग इन्टरनेट का प्रयोग जानते हैं वो 
www.rajivdixit.com
पर  जाएँ  या 
www.youtube.com
पर  राजीव दीक्षित  को सर्च करके सुने और


अब  आपको क्या करना है :-


1) अपने घर में , दफ्तर में , सफ़र में , रिश्तेदारो में , पड़ोस में इन बातों की चर्चा करे |


2) आन्दोलन के साथ आये या विरोध करे पर चुप ना बैठे क्योंकि देश की इस हालत के वो ही लोग जिम्मेदार है जो पढ़े लिखे हो कर भी  चुपचाप गलत होता देखते रहते है कुछ करते नहीं | वर्ना नेताओ ने तो  गुंडा तत्वों , भ्रष्ट मीडिया , भ्रष्ट  अधिकारियो और भ्रष्ट  उद्योगपतियों के साथ संगठन बना कर बड़ी इमानदारी के साथ हमारे देश को लूटा है .


3) भारत स्वाभिमान आन्दोलन के सदस्य बने |


4) टीवी पर आस्था चैनल हर रात को 8 बजे या संस्कार चैनल हर रात को 9 बजे देखे


5) बाजार से सभी शुन्य तकनीकी का सामान स्वदेशी ही ख़रीदे जैसे साबुन , तेल , शम्पू, कपडे, आचार , पापड़ आदि और देश को गरीब होने से बचाए


6 ) जैसे बुरे लोग गलत काम करना नहीं छोड़ते वैसे ही  अच्छे लोगों को अच्छे काम करना नहीं छोड़ना चाहिये


आपने मेरी बात को ध्यान से सुना / पढ़ा  , आपका बहुत बहुत धन्यवाद |
स्वदेशी विदेशी सामान की लिस्ट और अन्य जरुरी जानकारियों के लिए देखे

 भले ही हम हिंदू हो, मुस्लिम हो, या सिख हो
अपने धर्म से पहले हम को देश के बारे में सोचना है
जयहिंद